एसबीआई लोन्ग टर्म इक्विटी फन्ड - डायरेक्ट ग्रोथ

इक्विटी · ELSS
 · ★★★★★
₹ 500
न्यूनतम SIP
₹ 500
न्यूनतम लंपसम
0.94 %
व्यय अनुपात
★★★★★
रेटिंग
23,411
फंड का आकार (करोड़ में)
11 वर्ष
फंड की आयु
म्यूचुअल फंड एसआईपी कैलकुलेटर
मासिक इन्वेस्टमेंट
अधिकतम: ₹1,00,000
निवेश अवधि
वर्ष
अधिकतम: 5 वर्ष
  • निवेशित राशि
    --
  • संपत्ति प्राप्त
    --
  • अपेक्षित राशि
    --

स्कीम परफॉर्मेंस

रिटर्न और रैंक (28 मई 2024 तक)
1Y1Y 3Y3Y 5Y5Y अधिकतमअधिकतम
ट्रेलिंग रिटर्न 60% 28.1% 22.9% 17.5%
कैटेगरी का औसत 36.4% 18.9% 18.3% -

स्कीम आवंटन

होल्डिंग द्वारा
सेक्टर द्वारा
एसेट के अनुसार
अन्य
80.26%
सभी होल्डिंग देखें
होल्डिंग सेक्टर उपकरण एसेट
जीई टी एंड डी इंडिया कैपिटल गुड्स - इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट इक्विटी 4.86%
HDFC बैंक बैंक इक्विटी 3.99%
टोरेंट पावर पावर जनरेशन और डिस्ट्रीब्यूशन इक्विटी 3.96%
ICICI बैंक बैंक इक्विटी 3.64%
सेंट बीके ऑफ इंडिया बैंक इक्विटी 3.29%
एम & एम ऑटोमोबाइल इक्विटी 3.15%
भारती एयरटेल टेलीकॉम-सर्विस इक्विटी 3.14%
रिलायंस इंडस्ट्र रिफाइनरीज़ इक्विटी 3.05%
O N G C क्रूड ऑयल और नैचुरल गैस इक्विटी 3.02%
गेल (इंडिया) गैस वितरण इक्विटी 2.88%
कमिन्स इंडिया कैपिटल गुड्स-नॉन इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट इक्विटी 2.33%
एक्सिस बैंक बैंक इक्विटी 2.24%
टाटा मोटर्स-DVR ऑटोमोबाइल इक्विटी 2.21%
कोटक महि. बैंक बैंक इक्विटी 2.05%
सिप्ला फार्मास्यूटिकल्स इक्विटी 2.04%
सन फार्मा.इंड्स. फार्मास्यूटिकल्स इक्विटी 1.92%
लुपिन फार्मास्यूटिकल्स इक्विटी 1.89%
हिंडाल्को इंडस. नॉन फेरस मेटल्स इक्विटी 1.84%
पेट्रोनेट एलएनजी गैस वितरण इक्विटी 1.83%
B P C L रिफाइनरीज़ इक्विटी 1.81%
टेक महिंद्रा आईटी-सॉफ्टवेयर इक्विटी 1.72%
आईसीआईसीआई प्रू लाइफ इंश्योरेंस इक्विटी 1.69%
एचडीएफसी एएमसी फाइनेंस इक्विटी 1.69%
ITC तंबाकू उत्पाद इक्विटी 1.64%
इंफोसिस आईटी-सॉफ्टवेयर इक्विटी 1.54%
सुंदरम क्लेटन ऑटो एन्सिलरीज़ इक्विटी 1.36%
टाटा स्टील स्टील इक्विटी 1.34%
फोर्टिस हेल्थ. हेल्थकेयर इक्विटी 1.32%
कोफोर्ज आईटी-सॉफ्टवेयर इक्विटी 1.28%
इक्विटास एसएमए. फिन बैंक इक्विटी 1.26%
एम एन्ड एम फिन . सर्व. फाइनेंस इक्विटी 1.25%
Delhivery लॉजिस्टिक इक्विटी 1.16%
टाटा मोटर्स ऑटोमोबाइल इक्विटी 1.15%
विप्रो आईटी-सॉफ्टवेयर इक्विटी 1.15%
लारसेन और टूब्रो इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स और ऑपरेटर्स इक्विटी 1.05%
गोदरेज कंज्यूमर FMCG इक्विटी 1.04%
टीवीएस होल्डिंग्स फाइनेंस इक्विटी 1%
एआईए इंजीनियरिंग कास्टिंग, फोर्जिंग और फास्टनर इक्विटी 0.98%
जीवन बीमा इंश्योरेंस इक्विटी 0.92%
Fsn ई-कॉमर्स ई-कॉमर्स/ऐप आधारित एग्रीगेटर इक्विटी 0.91%
महिंद्रा लाइफ. निर्माण इक्विटी 0.81%
केम्पलास्ट सन्मार केमिकल इक्विटी 0.79%
प्रिज़्म जॉनसन सीमेंट इक्विटी 0.78%
पन्जाब नेशनल . बैन्क बैंक इक्विटी 0.77%
रैलिस इंडिया कृषि रसायन इक्विटी 0.76%
कंटेनर कॉर्पोरेशन. लॉजिस्टिक इक्विटी 0.71%
ग्रिंडवेल नॉर्टन कैपिटल गुड्स-नॉन इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट इक्विटी 0.69%
कजरिअ सिरेमिक्स सिरेमिक प्रोडक्ट इक्विटी 0.62%
मल्टी कॉम. एक्ससी. वित्‍तीय सेवाएं इक्विटी 0.61%
जुबिलेंट फूड. क्विक सर्विस रेस्टोरेंट इक्विटी 0.59%
एक्सेसरीज सीमेंट इक्विटी 0.55%
श्री सीमेंट सीमेंट इक्विटी 0.53%
सनोफी इंडिया फार्मास्यूटिकल्स इक्विटी 0.53%
आईसीआईसीआई लोम्बार्ड इंश्योरेंस इक्विटी 0.47%
एक्साईड ईन्डस्ट्रिस लिमिटेड. ऑटो एन्सिलरीज़ इक्विटी 0.41%
शीला फोम कंज्यूमर ड्यूरेबल्स इक्विटी 0.34%
वीए टेक वबाग कैपिटल गुड्स-नॉन इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट इक्विटी 0.33%
भारत फोर्ज कास्टिंग, फोर्जिंग और फास्टनर इक्विटी 0.31%
टिमकेन इंडिया सहनशीलता इक्विटी 0.23%
क्रॉम्पटन जीआर. अपहरण कंज्यूमर ड्यूरेबल्स इक्विटी 0.21%
आईआरबी इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवेलोपमेन्ट लिमिटेड. इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स और ऑपरेटर्स इक्विटी 0.2%
Cams सेवाएं वित्‍तीय सेवाएं इक्विटी 0.11%
हेइडेलबर्ग सेम. सीमेंट इक्विटी 0.03%
टाटा टेक्नोलॉग. आईटी-सॉफ्टवेयर इक्विटी 0.02%
मनपसंद बेवर. FMCG इक्विटी 0%
बैंक
17.24%
डेट
8.27%
ऑटोमोबाइल
6.51%
फार्मास्यूटिकल्स व बायोटेक
6.38%
आईटी-सॉफ्टवेयर
5.69%
अन्य
55.91%
सभी सेक्टर देखें
क्षेत्र एसेट
बैंक 17.24%
डेट 8.27%
ऑटोमोबाइल 6.51%
फार्मास्यूटिकल्स व बायोटेक 6.38%
आईटी-सॉफ्टवेयर 5.69%
औद्योगिक उत्पाद 5.59%
विद्युत उपकरण 4.86%
पेट्रोलियम उत्पाद 4.86%
गैस 4.71%
पावर 3.96%
टेलीकॉम-सेवाएं 3.14%
इंश्योरेंस 3.08%
तेल 3.02%
कैपिटल मार्केट 2.41%
सीमेंट और सीमेंट प्रोडक्ट 1.89%
परिवहन सेवाएं 1.87%
नॉन-फेरस मेटल्स 1.84%
स्वचालित घटक 1.72%
विविधतापूर्ण एफएमसीजी 1.64%
फेरस मेटल्स 1.34%
स्वास्थ्य सेवाएं 1.32%
फाइनेंस 1.25%
निर्माण 1.25%
कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 1.17%
पर्सनल प्रोडक्ट 1.04%
रिटेलिंग 0.91%
रियल्टी 0.81%
रसायन और पेट्रोकेमिकल 0.79%
उर्वरक और एग्रोकेमिका 0.76%
विश्राम सेवाएं 0.59%
अन्य उपयोगिताएं 0.33%
आईटी-सेवाएं 0.02%
कैश व अन्य -0.26%
इक्विटी
91.99%
रिवर्स रिपोज़
8.27%
नेट कर एएसएस/नेट रिसीवेबल्स
-0.26%
अन्य
0%

अग्रिम अनुपात

8.03
अल्फा
3.87
SD
0.96
बीटा
1.51
तीक्ष्ण

एग्जिट लोड

एग्जिट लोड शून्य

फंड का उद्देश्य

एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड एक विविध इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) है, जो निवेशकों को कर लाभ प्रदान करता है. पहले SBI मैग्नम टैक्सगेन स्कीम के नाम से जाना जाता था, इसे 31 मार्च 1993 को SBI म्यूचुअल फंड द्वारा लॉन्च किया गया था.

एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड वित्तीय सेवाओं, आईटी, ऑटोमोबाइल और ऑटो घटकों, पूंजीगत वस्तुओं, स्वास्थ्य देखभाल और तेल, गैस और उपभोग्य ईंधन क्षेत्रों में अपने अधिकांश निवेशों को वितरित करता है. इसे दिनेश बालचंद्रन द्वारा मैनेज किया जाता है.

इस स्कीम का उद्देश्य इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80C के तहत टैक्स कटौती प्रदान करते समय इक्विटी शेयरों के विविध पोर्टफोलियो में निवेश करके निवेश लाभ प्रदान करना है. यह स्कीम उपलब्ध अधिशेष के आधार पर समय-समय पर आय वितरित करने का भी इरादा रखती है.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड इक्विटी, संचयी परिवर्तनीय प्राथमिकता वाले शेयर, पूरी तरह से परिवर्तनीय डिबेंचर और बॉन्ड में कम से कम 80% एसेट निवेश करता है. इसमें मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट में अपनी एसेट का 20% तक इन्वेस्ट करने की सुविधा है. सेक्शन 80C टैक्स लाभ प्राप्त करने के लिए इस स्कीम को 3-वर्ष के वैधानिक लॉक-इन की आवश्यकता होती है.

फायदे और नुकसान

फायदे

नुकसान

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के लिए 1-वर्ष और 3-वर्ष के वार्षिक रिटर्न कैटेगरी औसत और इसके बेंचमार्क, S&P BSE 500 TRI इंडेक्स से अधिक हैं. SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में 3 वर्षों की लॉक-इन अवधि है, जिससे इसे कम लिक्विड बनाया जा सकता है.
इस स्कीम में अपनी कैटेगरी औसत की तुलना में 3-वर्षीय स्टैंडर्ड डिविएशन कम है, जिसके परिणामस्वरूप कम अस्थिर रिटर्न मिलता है. SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के लिए 5-वर्ष के वार्षिक रिटर्न कैटेगरी औसत और इसके बेंचमार्क, S&P BSE 500 TRI इंडेक्स से कम हैं.

 

इस स्कीम का पिछले 3 वर्षों में अपनी कैटेगरी औसत की तुलना में अधिक शार्प रेशियो है, जो यह दर्शाता है कि इसने अतिरिक्त जोखिम की प्रत्येक यूनिट के लिए रिटर्न बढ़ा दिया है. इस स्कीम का इन्फॉर्मेशन रेशियो 0.35 है, जो सुझाव देता है कि इसने जोखिम को ध्यान में रखते हुए बेंचमार्क इंडेक्स को लगातार आउटपरफॉर्म नहीं किया है.

एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में किसे निवेश करना चाहिए?

एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड निवेशकों के लिए उपयुक्त है जिनमें दीर्घकालिक निवेश क्षितिज है और इक्विटी के संपर्क में आने के माध्यम से पूंजीगत प्रशंसा की मांग है. स्कीम के पोर्टफोलियो में मुख्य रूप से इक्विटी शेयर होते हैं जो निवेशक को स्टॉक मार्केट में भाग लेने का अवसर प्रदान करते हैं.

इसके अलावा, इस स्कीम में किए गए इन्वेस्टमेंट इनकम टैक्स एक्ट, 1961 के सेक्शन 80C के तहत टैक्स कटौती के लिए पात्र हैं, जिससे इसे टैक्स-कुशल इन्वेस्टमेंट विकल्प बनाया जा सकता है.

यह योजना इक्विटी-लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) कैटेगरी में सम्मानित निवेश विकल्प है, जिसे इसके निरंतर प्रदर्शन और लागत-प्रभावीता के लिए मान्यता प्राप्त है. इस स्कीम ने एस एंड पी बीएसई 500 ट्राई इंडेक्स और पिछले तीन वर्षों में इसकी कैटेगरी औसत को बेहतर बना दिया है. इसके अलावा, इसका एक उल्लेखनीय ट्रैक रिकॉर्ड है जिसकी शुरुआत के बाद से 13.7% कंपाउंड वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) है, जो समय के साथ इसकी वार्षिक वृद्धि दर का प्रतिनिधित्व करता है.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड कम से कम 3 वर्षों के लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट होरिज़ोन और जोखिम के लिए बहुत अधिक सहनशीलता वाले इन्वेस्टर्स के लिए उपयुक्त है. हालांकि, अगर आपके इन्वेस्टमेंट के लक्ष्य इन विशेषताओं के साथ नहीं जुड़े हैं, तो वैकल्पिक इन्वेस्टमेंट विकल्पों पर विचार करना अधिक उपयुक्त हो सकता है.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में इन्वेस्ट करने के क्या लाभ हैं?

● SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में इन्वेस्ट करने से सेक्शन 80C के तहत वार्षिक रूप से 1.5 लाख तक की टैक्स कटौती प्रदान की जाती है, जिससे इसे कैपिटल एप्रिसिएशन और टैक्स लाभ दोनों चाहते हैं.
● इस स्कीम में 3 वर्षों की लॉक-इन अवधि अनिवार्य है, जो लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा देती है और शॉर्ट-टर्म स्पेक्यूलेटिव व्यवहार को निरुत्साहित करती है.
● SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड ने पिछले 3 वर्षों से अपने बेंचमार्क और कैटेगरी औसत को बेहतर बना दिया है.
● यह स्कीम स्टॉक के विविध पोर्टफोलियो में निवेश करती है, जो व्यक्तिगत स्टॉक में निवेश करने से जुड़े जोखिम को कम करती है.
● मैनेजमेंट (एयूएम) के तहत इसके बड़े एसेट में निवेश के ब्याज़ का एक महत्वपूर्ण स्तर, स्कीम की स्थिरता, कम ऑपरेशनल लागत और निवेशकों के बीच सकारात्मक धारणा का प्रतिनिधित्व किया जाता है.
● SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में एक्जिट लोड की अनुपस्थिति इन्वेस्टर्स को अतिरिक्त शुल्क के बिना अपनी यूनिट रिडीम करने की अनुमति देती है.

फंड मैनेजर

दिनेश बालचंद्रन

श्री दिनेश बालचंद्रन 2012 में सीनियर क्रेडिट एनालिस्ट के रूप में एसबीआई एमएफ में शामिल हुए और वर्तमान में अनुसंधान प्रमुख की स्थिति रखते हैं. वर्तमान में वह ₹38,525 करोड़ का AUM मैनेज करता है. एसबीआई एमएफ में, श्री बालाचंद्रन एसबीआई बैलेंस्ड एडवांटेज फंड, एसबीआई कॉन्ट्रा फंड, एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड और एसबीआई मल्टी-एसेट एलोकेशन फंड का प्रबंधन करते हैं. एसबीआई एमएफ में शामिल होने से पहले, उन्होंने अमेरिका में विश्वासघात के साथ काम किया.

रिस्क-ओ-मीटर

प्रतिस्पर्धी कंपनियों से तुलना

फंड का नाम

AMC संपर्क विवरण

SBI म्यूचुअल फंड
AUM:
8,28,312 करोड़
पता:
9th फ्लोर,क्रेसेंज़ो, सी-39&39, जी ब्लॉक, बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स, बांद्रा (ईस्ट), मुंबई-400 051.
संपर्क करें:
022-61793000
ईमेल ID:
partnerforlife@sbimf.com

एसबीआई म्यूचुअल फंड से अधिक फंड

फंड का नाम

श्रेणी के अनुसार म्यूचुअल फंड

इक्विटी

डेट

हाइब्रिड

इक्विटी
Large Cap Mutual Funds Large Cap Mutual Funds
लार्ज कैप
फंड का नाम
Mid Cap Mutual Funds Mid Cap Mutual Funds
मिड कैप
फंड का नाम
Small Cap Mutual Funds Small Cap Mutual Funds
स्मॉल कैप
फंड का नाम
Multi Cap Funds Multi Cap Funds
मल्टी कैप
फंड का नाम
ELSS Mutual Funds ELSS Mutual Funds
ELSS
फंड का नाम
Dividend Yield Funds Dividend Yield Funds
लाभांश उत्पादन
फंड का नाम
Sectoral / Thematic Mutual Funds Sectoral / Thematic Mutual Funds
सेक्टोरल / थीमेटिक
फंड का नाम
Focused Funds Focused Funds
केंद्रित
फंड का नाम
डेट
Ultra Short Duration Funds Ultra Short Duration Funds
बहुत छोटी अवधि
फंड का नाम
Liquid Mutual Funds Liquid Mutual Funds
लिक्विड
फंड का नाम
Gilt Mutual Funds Gilt Mutual Funds
सोने का पानी
फंड का नाम
Long Duration Funds Long Duration Funds
लंबी अवधि
फंड का नाम
Overnight Mutual Funds Overnight Mutual Funds
ओवरनाइट
फंड का नाम
Floater Mutual Funds Floater Mutual Funds
फ्लोटर
फंड का नाम
हाइब्रिड
Arbitrage Mutual Funds Arbitrage Mutual Funds
आर्बिट्रेज
फंड का नाम
Equity Savings Mutual Funds Equity Savings Mutual Funds
इक्विटी सेविंग्स
फंड का नाम
Aggressive Hybrid Mutual Funds Aggressive Hybrid Mutual Funds
एग्रेसिव हाइब्रिड
फंड का नाम

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में निवेश कैसे करें - डायरेक्ट ग्रोथ ?

आप एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में निवेश कर सकते हैं - त्वरित और सरल प्रक्रिया में प्रत्यक्ष विकास. नीचे दिए गए चरणों का पालन करें;
  • अपने 5paisa अकाउंट में लॉग-इन करें, म्यूचुअल फंड सेक्शन पर जाएं.
  • SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड खोजें - सर्च बॉक्स में सीधे विकास.
  • अगर आप SIP करना चाहते हैं तो "SIP शुरू करें" पर क्लिक करें या अगर आप लंपसम राशि इन्वेस्ट करना चाहते हैं, तो "अभी इन्वेस्ट करें" पर क्लिक करें"

एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ का एनएवी क्या है?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का NAV – 28 मई 2024 तक प्रत्यक्ष विकास ₹427.5 है.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड कैसे रिडीम करें - डायरेक्ट ग्रोथ होल्डिंग?

आप ऐप पर अपने होल्डिंग में जा सकते हैं और फंड के नाम पर क्लिक करके दो विकल्प अधिक इन्वेस्ट करें और रिडीम करें; रिडीम पर क्लिक करें और रिडीम करने के लिए वांछित राशि या यूनिट दर्ज करें या आप "सभी यूनिट रिडीम करें" पर टिक कर सकते हैं.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड की न्यूनतम sip राशि क्या है - डायरेक्ट ग्रोथ?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड की न्यूनतम SIP राशि - डायरेक्ट ग्रोथ ₹500 है

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के टॉप सेक्टर क्या हैं - डायरेक्ट ग्रोथ में इन्वेस्ट किया गया है?

टॉप सेक्टर्स SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ में निवेश किया गया है
  1. बैंक - 17.24%
  2. क़र्ज़ - 8.27%
  3. ऑटोमोबाइल - 6.51%
  4. फार्मास्यूटिकल्स और बायोटेक - 6.38%
  5. आईटी-सॉफ्टवेयर - 5.69%

क्या मैं SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ की SIP और लंपसम स्कीम दोनों में इन्वेस्टमेंट कर सकता/सकती हूं?

हां, आप अपने इन्वेस्टमेंट उद्देश्य और जोखिम सहिष्णुता के आधार पर एसआईपी या एसबीआई लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का लंपसम इन्वेस्टमेंट दोनों चुन सकते हैं.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का PE रेशियो क्या है - डायरेक्ट ग्रोथ?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का PE रेशियो - प्रत्यक्ष विकास 8.03 है

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड में कितना रिटर्न होता है - डायरेक्ट ग्रोथ जनरेट होता है?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ डिलीवर हो गया है 17.5% शुरुआत से

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का एक्सपेंस रेशियो क्या है - डायरेक्ट ग्रोथ?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का एक्सपेंस रेशियो - 28 मई 2024 तक प्रत्यक्ष विकास 0.94 % है.

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ का AUM क्या है?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का AUM - 28 मई 2024 तक सीधी वृद्धि ₹8,28,312 करोड़ है

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के टॉप स्टॉक होल्डिंग क्या हैं - डायरेक्ट ग्रोथ?

SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के टॉप स्टॉक होल्डिंग - प्रत्यक्ष विकास इस प्रकार हैं
  1. जीई टी&डी इंडिया - 4.86%
  2. एचडीएफसी बैंक - 3.99%
  3. टोरेंट पावर - 3.96%
  4. आईसीआईसीआई बैंक - 3.64%
  5. स्ट बीके ऑफ इंडिया - 3.29%

मैं SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ में अपने इन्वेस्टमेंट को कैसे रिडीम कर सकता/सकती हूं?

चरण 1: फंड हाउस की वेबसाइट पर जाएं
चरण 2: फोलियो नंबर और एम-पिन जोड़कर अपने अकाउंट में लॉग-इन करें
चरण 3: विद्रावल > रिडेम्पशन पर क्लिक करें
चरण 4: SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड चुनें - स्कीम में सीधे विकास, रिडेम्पशन राशि दर्ज करें, और सबमिट बटन पर क्लिक करें.

क्या SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड - डायरेक्ट ग्रोथ के लिए कोई लॉक-इन अवधि है?

हां, SBI लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के लिए लॉक-इन अवधि है - डायरेक्ट ग्रोथ.

अभी इन्वेस्ट करें
इन्वेस्ट करना अभी शुरू करें!

5 मिनट में मुफ्त डीमैट अकाउंट खोलें

कृपया मोबाइल नंबर दर्ज करें