>तांबा 5paisa के साथ मुफ्त डीमैट अकाउंट खोलें https://www.5paisa.com/hindi/open-demat-account?utm_campaign=social_sharing https://www.5paisa.com/hindi/commodity-trading/mcx-copper-price 19.398907103825

कॉपर की कीमत

₹821.55
1 (0.12%)
13 अप्रैल, 2024 तक | 02:07

कॉपर के लिए F&O डेटा एक्सेस करें

डीमैट अकाउंट खोलें

कॉपर स्पॉट की कीमत

परफॉरमेंस

दिन की रेंज

  • कम 818
  • अधिक 836.3
821.55

खुली कीमत

819.35

प्रीवियस क्लोज

820.55

तांबे के बारे में

कॉपर एक आवश्यक सामग्री है जिसका इस्तेमाल विनिर्माण उद्योग में किया जाता है. यह बहुत सी बातों में बहुत उपयोगी है क्योंकि यह बिजली, गर्मी और ध्वनि का अच्छा संचालक है. कॉपर का उपयोग विभिन्न उत्पादों जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटोमोबाइल, निर्माण, प्लंबिंग और इलेक्ट्रिकल कलाकृतियों के निर्माण के लिए किया जाता है. इसका इस्तेमाल वायर और केबल और इलेक्ट्रिकल आइटम और मशीनरी के उत्पादन में किया जा सकता है.

कॉपर के कई अन्य एप्लीकेशन हैं, जैसे सिक्के, बैंकनोट और अन्य आइटम बनाने के लिए जो बिज़नेस दुनिया के लोग इस्तेमाल करते हैं.


तांबे की दरें कैसे तय की जाती हैं?

कई कारक तांबे की कीमतों की सेटिंग में योगदान देते हैं. इनमें धातु, वैश्विक आर्थिक स्थितियों, उत्पादन लागत और राजनीतिक स्थिरता की उपलब्धता शामिल है. हालांकि, सबसे महत्वपूर्ण कारक मांग है. जब मांग अधिक हो, मूल्य बढ़ जाते हैं. जब मांग कम होती है, कीमतें कम होती हैं.

कॉपर कई उद्योगों के लिए आवश्यक है, इसलिए वैश्विक आर्थिक स्थितियों की निगरानी करना महत्वपूर्ण है. जब अर्थव्यवस्था अच्छी तरह से कर रही हो, तो तांबे की मांग आमतौर पर बढ़ जाती है. इससे कीमतें अधिक हो सकती हैं. हालांकि, अगर अर्थव्यवस्था संघर्ष कर रही है, तो तांबे की मांग आमतौर पर कम हो जाती है. इससे कीमतें कम हो सकती हैं.

कॉपर कीमतें सेट करने में उत्पादन लागत भी एक भूमिका निभाती है. अगर यह कॉपर बनाने के लिए अधिक लागत है, तो कीमतें अधिक होंगी. अगर यह कॉपर बनाने की लागत कम होती है, तो कीमतें कम हो जाएंगी.

राजनीतिक स्थिरता एक अन्य कारक है जो तांबे की कीमतों को प्रभावित कर सकता है. अगर कोई देश अस्थिर है, तो खनन और शिपिंग तांबा चुनौतीपूर्ण हो सकता है. इससे कीमतें अधिक हो सकती हैं.

कॉपर की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक क्या हैं?

कॉपर एक आवश्यक औद्योगिक धातु है जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के आवेदनों में किया जाता है. कई कारक तांबे की कीमतों को प्रभावित करते हैं, जिनमें वैश्विक आर्थिक वृद्धि, प्रमुख उद्योगों से मांग, आपूर्ति और उत्पादन लागत और भू-राजनीतिक कारक शामिल हैं.

ग्लोबल इकोनॉमिक ग्रोथ एक प्रमुख कॉपर डिमांड ड्राइवर है, क्योंकि धातु का इस्तेमाल निर्माण और बुनियादी ढांचे की परियोजनाओं में व्यापक रूप से किया जाता है. एक मजबूत वैश्विक अर्थव्यवस्था कॉपर की मांग को बढ़ाएगी, जबकि एक ग्रोथ स्लोडाउन में मांग गिरावट देखी जाएगी.

प्रमुख उद्योगों की मांग एक अन्य महत्वपूर्ण कारक है जो तांबे की कीमत को प्रभावित करता है. ऑटोमोटिव और इलेक्ट्रिकल उद्योग कॉपर के दो सबसे बड़े उपयोगकर्ता हैं, इसलिए इन क्षेत्रों की मांग में बदलाव कीमत पर काफी प्रभाव डाल सकते हैं.

कॉपर की कीमत निर्धारित करने के लिए आपूर्ति और उत्पादन लागत अन्य महत्वपूर्ण कारक हैं. खनन और रिफाइनिंग कॉपर की लागत धातु की समग्र आपूर्ति को प्रभावित करती है, जबकि उत्पादन लागत में बदलाव भी कीमत को प्रभावित कर सकते हैं.

अंत में, भू-राजनीतिक कारक भी तांबे की कीमत को प्रभावित कर सकते हैं. चिली और पेरू जैसे प्रमुख कॉपर-उत्पादक देशों में तनाव से आपूर्ति में व्यवधान हो सकता है, जबकि व्यापार विवाद भी कीमत पर प्रभाव डाल सकते हैं.


आपको कॉपर में क्यों निवेश करना चाहिए?

कॉपर विभिन्न कारणों से एक बेहतरीन निवेश है. यह बिजली और गर्मी का एक बेहतरीन कंडक्टर है और बहुत ही शानदार है, जिससे यह सभी प्रकार के उपयोगों के लिए परफेक्ट हो जाता है. साथ ही, यह एक किफायती धातु है, इसलिए आपको अपने पैसे की कीमत मिलेगी.

औद्योगिक धातु के रूप में, यह बुनियादी ढांचे और निर्माण के विकास के लिए आवश्यक है. कॉपर बिजली और गर्मी का एक अच्छा कंडक्टर भी है, जिससे इसे विभिन्न उपयोगों के लिए आदर्श बनाया जा सकता है. कॉपर का उपयोग बिजली तार, प्लंबिंग और कई अन्य निर्माण सामग्री उत्पन्न करने के लिए किया जाता है. यह सिक्के, ज्वेलरी और अन्य मेटल प्रोडक्ट भी बनाता है. इसके परिणामस्वरूप, कॉपर में निवेश करने से मुद्रास्फीति और अनिश्चित आर्थिक समय में सुरक्षा की भावना के विरुद्ध एक हेज प्राप्त हो सकती है.

इसका मतलब है कि हमेशा कॉपर की मांग होती है, जो कीमतों को स्थिर रखने में मदद करती है. अंत में, कॉपर एक अपेक्षाकृत कम धातु है, जो मांग बढ़ने पर समय के साथ अधिक मूल्यवान हो जाती है.

अंत में, तांबे का एक लंबा इतिहास है, इसलिए अब इसमें निवेश करने से भविष्य में अच्छे रिटर्न सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है.


तांबे में ट्रेडिंग के लाभ

कॉपर दुनिया भर के कई उद्योगों और एप्लीकेशनों के लिए एक महत्वपूर्ण धातु है, और इसमें विभिन्न प्रकार के उपयोग और एप्लीकेशन हैं. यहां कॉपर में ट्रेडिंग के 9 लाभ दिए गए हैं:

1. तांबा बिजली का एक उत्कृष्ट संचालक है, जिससे विभिन्न विद्युत अनुप्रयोगों के लिए यह आवश्यक होता है. तांबा गर्मी का एक उत्कृष्ट संचालक भी है, जिससे यह गर्मी के एक्सचेंजर और रेडिएटर के लिए आदर्श होता है. इसके अलावा, कॉपर करोजन-प्रतिरोधी है, जो इसे इलेक्ट्रिकल वायरिंग और प्लंबिंग में इस्तेमाल के लिए आदर्श बनाता है.

2. तांबा बहुत टिकाऊ है, जिसका अर्थ है कि इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों में किया जा सकता है जहां अन्य सामग्री उसी प्रकार के टूट-फूट को समाप्त नहीं कर पाएंगी. यह इसलिए है क्योंकि कॉपर क्षय और पहनने के लिए बहुत मजबूत धातु प्रतिरोधी है. यह इसे प्लंबिंग, इलेक्ट्रिकल वायरिंग और कुछ ज्वेलरी के प्रकार के लिए एक आदर्श सामग्री बनाता है.

3. यह काम करना आसान है और इसका इस्तेमाल विभिन्न विनिर्माण प्रक्रियाओं में किया जा सकता है.

4. कॉपर में हाई करोजन रेजिस्टेंस होता है, जिसका अर्थ विभिन्न वातावरण में कॉपर का उपयोग किया जा सकता है जहां अन्य सामग्री उसी मात्रा में करोजन के साथ नहीं रह सकती.

5. यह धातु एक बहुत कुशल हीट कंडक्टर है, जिससे यह विभिन्न एप्लीकेशनों के लिए आदर्श होता है जहां गर्मी को संवेदनशील घटकों से दूर रखने की आवश्यकता होती है.

6. तांबा बहुत आसान है, इसका मतलब है कि इसे विभिन्न रूपों में आकार दिया जा सकता है.

7. कॉपर में विस्तार का बहुत कम गुणांक है, जिसका अर्थ है तापमान में परिवर्तन प्रतिरोधी है.

8. तांबा गैर-चुंबकीय है, जो एप्लीकेशन में उपयोग के लिए आदर्श है जहां चुंबकीय सामग्री उपयुक्त नहीं है.

9. कॉपर रीसाइक्लेबल है, इसका मतलब है कि इसे विभिन्न एप्लीकेशन में दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है.


कॉपर में निवेश कैसे करें?

कॉपर में इन्वेस्ट करने के बारे में सोचने से पहले कुछ बातें चेक करें:

1. यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि कॉपर एक कमोडिटी है और इस प्रकार, कमोडिटी मार्केट के उतार-चढ़ाव के अधीन है.

2. कॉपर आमतौर पर ओर फॉर्म में पाया जाता है, और इसे निकालना महंगा और समय लग सकता है.

3. चूंकि कॉपर का उपयोग विभिन्न उद्योगों में किया जाता है, इसलिए प्लंबिंग से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स तक, वैश्विक मांग कीमतों पर बहुत प्रभाव डाल सकती है.


कॉपर में इन्वेस्ट कैसे करें इस बारे में कुछ टिप्स यहां दिए गए हैं:

1. कमोडिटीज़ मार्केट पर नज़र रखें: कॉपर की कीमतें अस्थिर हो सकती हैं, इसलिए मार्केट ट्रेंड पर अपडेट रहना महत्वपूर्ण है.

2. कॉपर माइनिंग कंपनियों में निवेश करने पर विचार करें: कॉपर माइनिंग कंपनियों में निवेश करने के कई कारण हैं. पहले, कॉपर निर्माण, इलेक्ट्रॉनिक्स और प्लंबिंग सहित विभिन्न उद्योगों के लिए आवश्यक है. दूसरा, कॉपर अपेक्षाकृत कम धातु है, इसलिए इसकी कीमत में वृद्धि होने की संभावना बढ़ जाती है. तीसरा, कॉपर माइनिंग एक कैपिटल-इंटेंसिव इंडस्ट्री है, जिसका मतलब है कि कंपनियों के पास सफल होने के लिए इन्वेस्ट करने के लिए बहुत सारा पैसा होना चाहिए. अंत में, कॉपर माइनिंग जोखिम भरा है, लेकिन जोखिम लेने के इच्छुक निवेशकों के लिए रिवॉर्ड पर्याप्त हो सकते हैं.

3. कॉपर की कीमतों को ट्रैक करने वाले ईटीएफ पर नज़र डालें: कॉपर की कीमतों के संपर्क में रुचि रखने वाले निवेशक इस मेटल को ट्रैक करने वाले एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) पर विचार करना चाहते हैं. कॉपर ईटीएफ निवेशकों को शारीरिक रूप से धातु के बिना कॉपर में निवेश करने का आसान और सुविधाजनक तरीका प्रदान करते हैं. कमोडिटी या माइनिंग कंपनियों में सीधे इन्वेस्ट किए बिना कॉपर के संपर्क में आने का यह एक अच्छा तरीका हो सकता है. 

4. सोचें कि ग्लोबल ट्रेंड मांग को कैसे प्रभावित करेंगे: वैश्विक अर्थव्यवस्था लगातार बदल रही है और विकसित हो रही है, जो सीधे तांबे की मांग को प्रभावित करती है. उदाहरण के लिए, जैसे-जैसे देश विकसित और औद्योगिकीकरण करते हैं, कॉपर की मांग बढ़ जाती है क्योंकि इसका इस्तेमाल विभिन्न अनुप्रयोगों में इलेक्ट्रिकल वायरिंग से लेकर प्लंबिंग तक किया जाता है. इसके अलावा, नई टेक्नोलॉजी विकसित होने के नाते, तांबे की आवश्यकता बढ़ जाती है, क्योंकि यह बिजली का एक बेहतरीन कंडक्टर है. कई कारक इन्फ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं से लेकर इलेक्ट्रिक वाहनों के उत्थान तक ग्लोबल कॉपर की मांग को प्रभावित कर सकते हैं.
 

कॉपर संबंधी सामान्य प्रश्न

आज कॉपर की कीमत क्या है?

MCX में कॉपर की कीमत 821.55 है.

कॉपर में ट्रेड कैसे करें?

कॉपर में ट्रेड करने के लिए 5Paisa के साथ डीमैट अकाउंट खोलें.

क्या तांबे को अच्छा निवेश कहा जा सकता है?

कई लोग कॉपर को एक अच्छा निवेश के रूप में देखते हैं क्योंकि यह विभिन्न उद्योगों में इस्तेमाल किया जाने वाला एक मूल्यवान धातु है. कॉपर एक लाल-भूरा धातु है जो डक्टाइल और नमनीय है. यह बिजली और गर्मी का एक बेहतरीन कंडक्टर है और गंदगी का प्रतिरोध करता है, जिससे यह वायरिंग के लिए एक परफेक्ट सामग्री बन जाती है. ये प्रॉपर्टी इलेक्ट्रिकल वायरिंग, प्लंबिंग और कई अन्य एप्लीकेशन के लिए कॉपर महत्वपूर्ण बनाते हैं.

क्या तांबे की कीमतें बढ़ रही हैं या गिर रही हैं?

कॉपर की कीमत वैश्विक आर्थिक स्थितियों, उत्पादन लागत और निर्माण और विनिर्माण जैसे उद्योगों से मांग सहित कई कारकों का कार्य है. हाल के वर्षों में, कॉपर की कीमतें अस्थिर रही हैं, उच्च और कम के बीच स्विंग हो रही हैं. हालांकि, हाल के वर्षों में कॉपर की कीमतें धीरे-धीरे कम हो गई हैं.

कॉपर गिरने की कीमतें क्यों हैं?

तांबे की गिरती कीमतों के कुछ कारण हैं. सबसे पहले, धातु की वैश्विक अधिक आपूर्ति होती है. दूसरे, देश की धीमी आर्थिक वृद्धि के कारण विश्व के सबसे बड़े कॉपर उपभोक्ता चीन की मांग कमजोर रही है.

क्या कॉपर की कीमतें 2023 में बढ़ जाएंगी?

कॉपर की कीमत की भविष्यवाणी करने के लिए कोई निश्चित जवाब नहीं है. हालांकि, कई कारक 2023 में तांबे की कीमत में वृद्धि कर सकते हैं. पहले, वैश्विक आर्थिक विकास 2023 में वृद्धि का अनुमान लगाया जाता है, जिससे तांबे की मांग बढ़ सकती है. आपूर्ति की बाधाएं भी अधिक कीमतों का कारण बन सकती हैं, क्योंकि चिली जैसे प्रमुख कॉपर-उत्पादक देशों में कम उत्पादन से धातु की कमी हो सकती है.

अगले 5 वर्षों में कॉपर की कीमत क्या होगी?

अगले पांच वर्षों में तांबे की कीमत की भविष्यवाणी करने के लिए कोई आसान उत्तर नहीं है. विभिन्न कारक तांबे की कीमत को प्रभावित कर सकते हैं, जिसमें वैश्विक आर्थिक स्थितियां, उत्पादन स्तर और मांग शामिल हैं. हालांकि, कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि उभरते बाजारों में धातु की बढ़ती मांग के कारण कॉपर की कीमत अगले पांच वर्षों में बढ़ती रहेगी.

किस देश ने दुनिया में सबसे बड़ा तांबा आरक्षित किया है?

चिली विश्व के सबसे बड़े कॉपर रिज़र्व वाला देश है. तांबा चिली के लिए एक आवश्यक वस्तु है. अकेले दुनिया के कॉपर रिज़र्व में से लगभग एक-तिहाई का घर है, जिससे यह इस कैटेगरी में स्पष्ट लीडर बन जाता है.

कमोडिटी से संबंधित आर्टिकल